Parker Solar Probe, Parker Solar Probe kya hai, What is Parker Solar Probe, Parker Solar Probe kaise kaam karega, How does works Solar Probe, Solar Probe, Solar Probe ke faayde, Benefits of Solar Probe, Benefits of Parker Solar Probe, पार्कर सोलर प्रोब, पार्कर सोलर प्रोब क्या है, पार्कर सोलर प्रोब कैसे काम करेगा, पार्कर सोलर प्रोब के फायदे,

Parker Solar probe क्या है? सोलर प्रोब कैसे काम करेगा?

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है ओंकार और मेरी वेबसाइट OKTECHGALAXY पर आपका फिर से एक बार स्वागत है। गैलेक्सी के बारे में हम स्टार या प्लेनेट की जानकारी नहीं लेते है यह मैं आपको सबसे पहले बता दू क्योंकि कई सारे लोग कमेंट करते है कि स्टार और गैलेक्सी के बारे में क्यों नहीं बता देते। तो दोस्तों ऐसे टॉपिक पर पहले से कुछ कंटेंट कई सारे यूट्यूब पर मौजूद है।

गैलेक्सी पर के बारे में जानना या प्लेनेट की जानकारी के बारे में जानना वैसे तो किसी भी इनफॉर्मैटिक चीज की ओर हमें नहीं ले जाता क्योंकि दूसरे स्टार के बारे में या प्लैनेट के बारे में जानकर इसी का फायदा नहीं होता है। क्योंकि या तो हम वहां पर रहने जा नहीं सकते या फिर अधिक जानकारी से कोई अलग नहीं कर सकते है। मैं मेरी वेबसाइट पर ऐसे टॉपिक बताता हूं जिससे सच में ही लोगो को फायदा होता है।

ऐसे में अगर आप भी चाहते हो कि हम स्टार और अलग-अलग गैलेक्सी की जानकारी आपको दे तो कमेंट में बताएं कि कौन सी जानकारी आपको चाहिए, अगर आपका बताया गया टॉपिक सही हुआ तो उस पर रिसर्च करके आपको जानकारी देने की कोशिश करूंगा। इस पोस्ट में मैं आपको बता देता हूं कि हम पार्कर सोलर प्रोब के बारे में जानकारी जानेंगे।

जी हां दोस्तों पार्कर सोलर प्रोब कुछ साल पहले लांच किया गया था। पर मैं अब यह जानकारी अब दे रहा हूं क्योंकि मेरा यह मानना है कि जानकारी कभी भी दी जाए कुछ नहीं फर्क पड़ता। कोई भी ट्रेंडिंग जानकारी ज्यादा से ज्यादा 3 या 4 दिन तक वह ट्रेंडिंग में रहती है इसलिए मैं मेरे हिसाब से और वेबसाइट में जिस पोस्ट की जरूरत है उसके हिसाब से पोस्ट अपलोड करता हूं।

दोस्तों क्या हो अगर हम अपनी गैलेक्सी के मुख्य स्टार यानी कि सूरज तक जा सके? यह सवाल वैसे बहुत पेचीदा लगता है क्योंकि सूरज की गर्मी और वहां का नजारा काफी भयानक होता है। ऐसे में नासा द्वारा एक यान सूरज का अध्ययन करने के लिए भेजा गया था। मुझे वो न्यूज़ आज भी याद है।

इसलिए मैंने तब यह टॉपिक सेव करके रखा था। पर तब मैं वह पोस्ट आप तक नहीं पहुंचा पाया क्योंकि मैं एक साथ 30 पोस्ट अपलोड करता हूं और उसमें ये पोस्ट मिस हो गया था ऐसे में तब कई सारे इंपॉर्टेंट पोस्ट भी अपलोड करने थे और उस वजह से सोलार प्रोब के बारे में मैंने ज्यादा जानकारी नहीं दी।

पर इस आर्टिकल में सोलार प्रोब के बारे में इस बार काफी विस्तार से जानकारी देने की कोशिश करने जा रहा हूं। तो दोस्तों इस पोस्ट में आपको पार्कर सोलर प्रोब के बारे में क्या कुछ नया इंटरेस्टिंग और यूज़फुल जाने को मिलेगा। यह में सबसे पहले बता देता हूं और उस सभी पॉइंट पर हम विस्तार से जानकारी लेंगे।

इस पोस्ट से आप नया, इंटरेस्टिंग और यूजफुल जानोगे की पार्कर सोलर प्रोब क्या है? पार्कर सोलर प्रोब कैसे काम करेगा? पार्कर सोलर प्रोब के फायदे क्या है? What is Parker Solar Probe?

Parker Solar Probe, Parker Solar Probe kya hai, What is Parker Solar Probe, Parker Solar Probe kaise kaam karega, How does works Solar Probe, Solar Probe, Solar Probe ke faayde, Benefits of Solar Probe, Benefits of Parker Solar Probe, पार्कर सोलर प्रोब, पार्कर सोलर प्रोब क्या है, पार्कर सोलर प्रोब कैसे काम करेगा, पार्कर सोलर प्रोब के फायदे,
पार्कर सोलर प्रोब क्या है? पार्कर सोलर प्रोब के फायदे?
Trending and Useful contents
> Pinterest Manage कैसे करे?
> रोजधन से पैसे कैसे कमाए?
> Google AdSense क्या है?
> ऑनलाइन कमाने के तरीके
> Website Footer Credit कैसे बदले?

पार्कर सोलर ( प्रोब ) क्या है? What is Parker Solar Probe?

दोस्तों सबसे पहले मैं आपको बता दूं कि सूरज और पृथ्वी की जो दूरी होती है वह 14,96,00,000 किलोमीटर है। और सूर्य से पृथ्वी पर प्रकाश को आने मे 8.3 मिनट का समय लगता है। पर यह दूरी भी सटीक नही है। यह दूरी हमेशा बदलती रहती है। इसका कारण यह है कि सूरज का पूर्ण एक चक्कर नहीं काटती है। वह थोड़ी तिरछी लंबाई से पर काटती है।

सूरज के कोर का तापमान हमेशा 15 मिलीयन डिग्री सेल्सियस या फिर 27 मिलियन डिग्री फरेनहाइट होता है। और इतने डिग्री सेल्सियस में कोई स्पेसशिप भेजना वैसे भी कोई आसान काम नहीं है। पर नासा का पार्कर सोलर प्रोब यह काम करने जा रहा है।

यह पार्कर सोलर प्रोब 2015 को अंतरिक्ष में लांच करने का प्रयास होने वाला था पर कुछ तकनीकी कारणों की वजह से इसे 12 अगस्त 2018 में अंतरिक्ष में लॉन्च कर दिया गया। इस पार्कर सोलर प्रोब का नाम फिजिसिस्ट यूजीन न्यूमैन पार्कर ( Eugene Newman parker ) के नाम से रखा गया है। और याद रखने की बात यह है कि पहली बार किसी जीवित वैज्ञानिक का नाम किसी प्रोब सैटेलाइट को दिया जा रहा है।

पार्कर सोलर प्रोब कैसे काम करेगा? How will Parker Solar Probe work?

पार्कर सोलर प्रोब सूर्य के काफी निकट तक जाएगा यह निकटतम दूरी आज तक की सबसे निकट दूरी होगी जहां पर कोई प्रोब सूरज तक गया हो। इसे बनाया ही कुछ इस तरह से ही कि यह सूरज के जितना नजदीक हो सके जा सके। तो यह प्रोब सूरज की सतह से लगभग 70,00,000 किलोमीटर दूरी तक जाएगा और वहां से सूरज अध्ययन करेगा।

यह जब सूरज के पास पहुंच जाएगा या पहुंचने के लिए तैयार होगा तब इस प्रोब के जो हिट प्रोटेक्टर पैनल है वह सूरज की तरफ होंगे और वह सूरज से आने वाली गर्मी को सूरज की और तरह रिफ्लेट करेंगे। इससे होगा यह की इसके जो पैनल है वह काफी अच्छे से काम करेंगे और जो छोटे-छोटे टूल्स इस प्रोब पर लगाए है वह फिट की वजह से ज्यादा गर्म नहीं होंगे।

दोस्तों सूरज से गर्मी तैयार होने के लिए या सूरज में प्रमुख चार एलिमेंट होते है। तो सूरज का 91.2% भाग हाइड्रोजन एटम से बना है। 8.7 परसेंट भाग हीलियम से बना है। और ऑक्सीजन एटम की मात्रा सूरज में 0.078 है। और कार्बन एटम की मात्रा 0.043 है। अब यह एलिमेंट किस तरह से काम करते है? कौन सा रिएक्शन होने के बाद हीलियम पता है।

यह नजदीक से जाना जाएगा। अब हाइड्रोजन आइटम्स का रिएक्शन एक दूसरे के साथ किस तरह से होता है यह भी जानने को मिल जाएगा क्यूंकि हीलियम ही तो है सूरज की ऊर्जा का कारण। इसके साथ-साथ सूरज पर आने वाले Solar Wind कैसे तैयार होते है और इसका आने वाले दिनों में पृथ्वी पर क्या असर होगा यह जाने को मदद मिलेगी।

पार्कर सोलर प्रोब के फायदे क्या है? Advantages of Parker Solar Probe?

पार्कर सोलर प्रोब का सबसे अच्छा फायदा यह है कि यह सूरज के सबसे नजदीक जाकर काम करेगा। जहां पर आज तक कोई भी प्रोब नहीं गया है। इससे सूरज के बारे में अधिक जानकारी जाने का मौका हमारे वैज्ञानिकों को मिलेगा।

पार्कर सोलर प्रोब में कई सारे सेंसर है जो नजदीक से सूरज को डिटेक्ट करेंगे। उसके अंदर क्या रिएक्शन होते है और किस तरह से रिएक्शन होते है यह जानने के साथ-साथ सूरज की एक प्रॉपर इमेज क्लिक करने का काम भी हो जाएगा। जो काफी साफ और अलग-अलग इफेक्ट के साथ खींची जाएगी।

अगर सूरज किस तरह से अलग-अलग एलिमेंट पर रिएक्ट करता है यह जानने को मिला तो हम अर्थ पर एक एनर्जी का अलग सोर्स ढूंढ पाएंगे क्योंकि अभी तक सूरज के बारे में प्रॉपर रिसर्च ना होने के कारण हम सूरज जैसे ही कोई छोटी दूसरी चीज नहीं बना सके जो एनर्जी को पूरा कर सकें। इससे मनुष्य के लिए कभी न खत्म होने वाली ऊर्जा बनाई जा सकती है।  

अगर पार्कर सोलर प्रोब मिशन सफल होता है। तो वैज्ञानिकों को सूरज की उत्पत्ति से लेकर उससे पहले के राज खोलने में भी मदद मिलेगी। क्योंकि सूरज की उत्पत्ति भी एक चर्चा का ही विषय रहा है। सूरज के बारे में जितने जानकारी हमारे वैज्ञानिकों के पास फिलहाल है वह काफी कम है।

अभी तक सूरज की एग्जैक्ट एज यानी उमर वैज्ञानिकों को पता नहीं है। इसका कारण यह है कि वैज्ञानिक किसी अंतरिक्ष की चीज की एज निश्चित करने के लिए लाइट और स्पीड ऑफ लाइट का सहारा लेते है।

उसी तरह यह पता चलेगा कि सूरज की रियल एज क्या है। फिलहाल की जो सूरज की आयु बताई गई है वह हमारे ब्रह्मांड के विस्तार के अनुसार बताई गई है पर इस अध्ययन से कुछ नई जानकारी भी मिल सकती है।

दोस्तो इस पोस्ट में हमने जाना कि ” पार्कर सोलर प्रोब क्या है? पार्कर सोलर प्रोब कैसे काम करेगा? पार्कर सोलर प्रोब के फायदे क्या है?

तो दोस्तों यह आर्टिकल कैसा लगा COMMENT जरूर करें । अगर इस आर्टिकल से जुड़ा आपका कोई सवाल है तो कृपया कमेंट बॉक्स में जरूर पूछें । ताकि आपके साथ और भी लोगों की परेशानी दूर हो । अगर आर्टिकल अच्छा लगे तो इसे अपनों में और आपके पसंदीदा सोशल मीडिया वेबसाइट पर SHARE जरूर करें । अन्य सोशल मीडिया साइट पर हमारे नोटिफिकेशन पाने के लिए कृपया हमें आपके पसंदीदा सोशल मीडिया साइट पर फॉलो भी करें ।

ताकि हमारा आने वाला कोई भी आर्टिकल आप मिस ना कर सको । हमें Facebook, Instagram,  Twitter, Pinterest और Telegram पर फॉलो करें । साथ में हमारी आनेवाली पोस्ट के ईमेल द्वारा Instant Notification के लिए FeedBurner को SUBSCRIBE करें ।



 सकारात्मक व्यक्ति सदा दूसरों में भी अपनी सकारात्मक ऊर्जा का संचार करता हैंOKTECHGALAXY.COM / Motivation

Thank You, Thank You logo, Ty logo, Thank you very much,

कमेंट से अपना सहयोग जताये. ✍️✌️❤️