नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है ओंकार और मेरी वेबसाइट OKTECHGALAXY.COM पर आपका फिर से एक बार स्वागत है। दोस्तों आप एक ब्लॉगर हो तो यह पोस्ट आपके लिए काफी जरूरी है। आपको गूगल सर्च कंसोल के बारे में तो पता ही होगा । गूगल सर्च कंसोल हर एक ब्लॉगर के लिए काफी जरूरी सर्विस है ।

इसलिए Google Search Console के बारे में पहले ही सारी जानकारी वेबसाइट पर पब्लिश कर दी है। अगर गूगल सर्च कंसोल में आपकी कोई वेबसाइट वेरिफाई करनी है तो उसे सबसे पहले होस्टिंग प्रोवाइडर द्वारा वेरीफाई करना होता है।

या फिर डोमेन को होस्टिंग द्वारा वेरीफाई करना पड़ता है और अगर ऐसा नहीं किया जाता तो आप अपने वेबसाइट पर आने वाले ट्रैफिक को जांच नहीं पाते हो क्योंकि गूगल सर्च कंसोल में ही वह फीचर्स होते है। जो आपको अपनी वेबसाइट का एनालिटिक्स करने में मदद करते है।

साथ में कौनसे एरर वेबसाइट दिखा रहा है, या फिर वेबसाइट में Breadcrumb , Sitemap की क्या स्थिति है। इसके बारे में पता चलता है। अगर आप वह एरर ठीक नहीं करते हो तो आपकी वेबसाइट पर इसका बुरा असर पड़ता है। इसलिए सर्च कंसोल में आपकी वेबसाइट ऐड होना जरूरी है।

और वेबसाइट ऐड करने से पहले उसे अपनी होस्टिंग प्रोवाइडर वेबसाइट द्वारा वेरीफाई करना भी जरूरी है। तो यह काम किस तरह से किया जाता है। इसके बारे में ही यह आज का यह पूरा आर्टिकल मौजूद है।

इस आर्टिकल में आपको क्या कुछ नया इंटरेस्टिंग और यूज़फुल जानने को मिलेगा इसके बारे में मैं आपको सबसे पहले सभी पॉइंट बता देता हूं फिर उस पॉइंट पर हम अलग अलग करके विस्तार से जानकारी लेंगे।

इस पोस्ट में आप नया, इंटरेस्टिंग और यूजफुल जानेंगे कि गूगल सर्च कंसोल क्या होता है? गूगल सर्च कंसोल की वेबसाइट को होस्टिंग से कैसे वेरीफाई करें?  वेबसाइट होस्टिंग से वेरीफाई करने के फायदे

गूगल सर्च कंसोल क्या होता है, वेबसाइट को होस्टिंग से कैसे वेरीफाई करे, Search console kya hai, Search console kya hota hai, Google Search console kya hota hai, Google Search console kya hai, Website hosting se verify kaise kare, Website hosting se verify kare, Website hosting se verify kyu kare, Website hosting par ponit kare, Website hosting par target kaise kare
वेबसाइट को होस्टिंग से कैसे वेरीफाई करें? verify the website with hosting?
Best and Useful Acrticle
> OG Whatsapp क्या है? हिडेन फीचर्स.
> मोबाइल फोटो में लोकेशन कैसे ऐड करें
> मोड एप प्ले स्टोअर पर अपलोड कौन करता है?
> गूगल ने एडसेन्स से link Ad क्यों हटाई?

गूगल सर्च कंसोल क्या होता है?

 दोस्तों गूगल सर्च कंसोल क्या होता है? इसके बारे में हमने पिछले एक पोस्ट में काफी विस्तार से जानकारी ली है। तो इस पोस्ट में में ज्यादा जानकारी तो नहीं दूंगा पर इतना बताऊंगा कि गूगल सर्च कंसोल गूगल द्वारा प्रोवाइड कराया गया एक सोर्स है।

जिसकी मदद से वेबसाइट ओनर या ब्लॉगर अपनी वेबसाइट की पूरी जांच कर सकता है। सारे एरर को ठीक कर सकता है। और यूजर को किस तरह की पोस्ट पसंद आ रही है। उसके अनुसार अगले पोस्ट को तैयार कर सकता है। अगर आप अपनी वेबसाइट पर आ रहे एरर को ठीक नहीं करते हो तो इसका असर आपकी वेबसाइट पर पड़ता है।

जैसे कि वह पोस्ट गूगल पर रैंक ना करना या फिर गूगल पर सर्च ना होना, प्रॉपर तरीके विजिट ना होना जैसे एरर आपको आ सकते है। और इसी को ठीक करने का एक रास्ता गूगल ने आपको दिया है। जिसे गूगल सर्च कंसोल कहा जाता।

गूगल सर्च कंसोल में आपको अपनी वेबसाइट का साइड मैप ऐड करना होता है। तब जाकर गूगल आप की वेबसाइट पर किस तरह की पोस्ट है यह जांच पाता है। अगर आप वह साइटमैप ऐड नहीं करते हो तो आपकी वेबसाइट सिर्फ़ एक खाली जगह है जो कि किसी को नजर नहीं आ रही ऐसा माना जाएगा।

आप कितने भी पोस्ट अपलोड करो या ना करें। पर गूगल सर्च कंसोल में अपनी वेबसाइट ऐड करना ना भूले। गूगल सर्च कंसोल की अधिक जानकारी के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें। यहां पर आपको पता चल जाएगा कि गूगल सर्च कंसोल क्या है?

वेबसाइट को सर्च कंसोल में वेरीफाई कैसे करें?

 दोस्त वेबसाइट को गुगल सर्च कंसोल में ऐड करना और लिंक को होस्टिंग प्रोवाइडर के साथ वेरीफाई करना यह दोनों भी काम अलग अलग है। इसलिए मैंने यह दूसरा पार्ट आपके लिए पब्लिश किया है। वेबसाइट को सर्च कंसोल में ऐड करने के बारे में हमने पिछला पोस्ट देखा है।

उसमें मैंने प्रॉपर जानकारी दी है। आप वह भी पढ़े। अब आते है मैं टॉपिक की ओर कि, गूगल सर्च कंसोल की वेबसाइट लिंक को होस्टिंग प्रोवाइडर के साथ वेरीफाई कैसे करें? तो सबसे पहले आपको नीचे दिए गए हर एक स्टेप को फॉलो करते जाना है। और सर्च कंसोल की वेबसाइट को होस्टिंग प्रोवाइडर के साथ वेरीफाई करना है।

तो दोस्तों इस काम के लिए सबसे पहले आपको अपने Search Console को ओपन करना है। जहां पर आपको एक ब्लैंक लिंक दिखाई देगी और कोई भी डाटा शो नहीं होगा। तो आपको सर्च प्रॉपर्टी पर क्लिक करना है। और + ADD PROPERTY पर क्लिक कर देना है।

तो एड प्रॉपर्टी पर क्लिक करने के बाद आप नेक्स्ट पेज तक पहुंच जाते हो। जहां पर आपको दो ऑप्शन देखने को मिल जाते है।  जिसमें से लेफ्ट ऑप्शन DOMAIN ऑप्शन होता है। और राइट साइड का ऑप्शन URL PREFIX ऑप्शन होता है। आपको लेफ्ट वाला ऑप्शन सेलेक्ट करना है। जोकि है DOMAIN

उस ऑप्शन के बॉक्स में आपको अपने वेबसाइट का डोमेन नेम और extensions ऐड करना है। जैसे नीचे फोटो में दिखाया गया है। उसी तरह अपनी वेबसाइट का नाम एंटर करें और फिर CONTINUE पर क्लिक कर दें ।

IMG

वेबसाइट को होस्टिंग से कैसे वेरीफाई करें?

कंटिन्यू पर क्लिक करने के बाद आप अगले पेज तक पहुंच जाते हो जहां पर आपको अपने वेबसाइट को होस्टिंग प्रोवाइडर के साथ वेरीफाई करने के लिए कहा जाएगा । तो गूगल सर्च कंसोल द्वारा इसी पेज में कुछ होस्टिंग प्रोवाइडर के नाम दिए गए है। आप उन होस्टिंग प्रोवाइडर से होस्टिंग ली है।

तो उसमें से सिलेक्ट करें या फिर Any DNS Provider पर क्लिक करें। इससे आप खुद के किसी अन्य होस्टिंग प्रोवाइडर के वेबसाइट पर आपकी वेबसाइट वेरीफाई कर सकते हो। तो उस पेज से कोड को कॉपी करें और अपनी होस्टिंग प्रोवाइडर की वेबसाइट ओपन करें।

जैसे कि मैंने होस्टिंगर से होस्टिंग ली है। तो यहां पर में होस्टिंग पर किस तरह से डोमेन को वेरीफाई करते है। इसके बारे में बताऊंगा। अगर आपने किसी अन्य होस्टिंग प्रोवाइडर से होस्टिंग ली है। तो मुझे कमेंट करें बाकी सभी होस्टिंग प्रोवाइडर से वेबसाइट वेरीफाई करने का प्रोसेस सेम हीं होता है। तो मुझे कमेंट करके बताएं मैं आपको हेल्प कर दूंगा।

उस गूगल सर्च कंसोल पेज या टैब को वैसे ही शुरु रहने दे उसे बंद ना करें और दूसरा टैब ओपन करें। जिसमें  होस्टिंग प्रोवाइडर से होस्टिंग ली है। तो होस्टिंग का वेबसाइट ओपन करें और अपना अकाउंट साइन इन करें । 

साइन इन करने के बाद HOSTING पर क्लिक कर दे । तब आप होस्टिंग डैशबोर्ड तक पहुंच जाते हो । Hostinger मैं आपको अपने डैशबोर्ड के साथ-साथ कई अन्य ऑप्शन देखने को मिलते है । जैसे कि होस्टिंग डैशबोर्ड, लॉगइन, ईमेल, अकाउंट, सब्डोमेन पार्क डोमेन जैसे ऑप्शन मिल जाते है। पर आपको DNS Editer  पर क्लिक करना है। जहां से आप अपने डीएनएस नेमसर्वर को चेंज कर पाते हो।

यह DNS Name Server आप ब्लॉगर वेबसाइट को होस्टिंग पर पॉइंट करने के लिए यानी कि कनेक्ट करने के लिए भी इस्तेमाल कर सकते हो। पर हमें इस पोस्ट में सिर्फ़ देखना है कि वेबसाइट को होस्टिंगर पर इस तरह से वेरीफाई करना है। तो दोस्तों इसके लिए सबसे पहले DNS Editer ओपन करें । जिसमें आपको पहले से मौजूद कुछ Name Server देखने को मिलेगे ।

आपको एक नया Name Server तैयार करना होगा । जो भी ब्लैक बॉक्स दिख रहे है, उस पर क्लिक करें। यहां पर आपको सावधानी से सारी बाते सेलेक्ट या फिलअप करनी है। नहीं तो नया DNS Name Server क्रिएट नहीं होगा और आपकी वेबसाइट ठीक से वेरीफाई नहीं होगी कई सारे लोग यहां पर ही गलती करते है।

तो वो ब्लैक बॉक्स लेने के बाद आपको पहले मौजूद ऑप्शन को बदल देना है। जैसे कि टाइप A को बदल कर वाह TXT को सेलेक्ट करें । NAME बॉक्स में जो @ ऑप्शन है उसे वैसे ही रहने दें और POINT 2 के बॉक्स में वह कॉपी की गई लिंक पेस्ट करें और TTL मैं 14400 सिलेक्ट करें उसके बाद ADD RECORD करके उस रिकॉर्ड को सेव करें।

फिर दोबारा से सर्च कंसोल के वेबसाइट पर चले जाए जो पहला टैब आपने ओपन रखा था उस पेज पर आपको जाना है। । वेरीफाई पर क्लिक कर दें आपका डोमेन सर्च कंसोल पर सक्सेसफुली वेरीफाई हो जाएगा अगर नहीं होता है। तो कुछ देर तक इंतजार करें क्योंकि होस्टिंग प्रोवाइडर इस काम के लिए कुछ वक्त ले लेते है।

जो कम से कम 24 घंटे का होता है। अगर एरर आ जाता है तो यह देख ले की होस्टिंग प्रोवाइडर वेबसाइट पर नया DNS Name क्रिएट हुआ है या नहीं । अगर एरर आ जाता है तो कमेंट करे । अगर एरर ना आने के बाद भी सच कंसोल में वेबसाइट वेरीफाई नहीं होती है तो कुछ वक़्त इंतजार करे ।

सर्च कंसोल में वेबसाइट ऐड करने के फायदे

# वेबसाइट के एरर जानने के लिए

 दोस्तो जब तक आप अपनी वेबसाइट गूगल सर्च कंसोल में एड नहीं करते हो तब तक आप गूगल सर्च कंदील में आपकी वेबसाइट पर कितने एरर है ये जान जान सकते । और अगर आपको अपनी वेबसाइट गूगल सर्च कंसोल पर एड वेरीफाई करनी है तो यही बेस्ट रास्ता होता है । तो वेबसाइट के एरर जानने के लिए सबसे पहले अपनी वेबसाइट होस्टिंग प्रोवाइडर वेबसाइट से वेरीफाई जरूर करे । यह काम हर एक ब्लॉगर को करना ही पड़ेगा ।

# वेबसाइट पब्लिक सोर्स और Analysis जानने के लिए

 दोस्तो एक बार अपने अपनी वेबसाइट गूगल सर्च कंसोल में एड कर दी तो आप एक तो अपने वेबसाइट के पब्लिक सोर्स किस तरह से वेबसाइट में आ रहे है यह जान सकते हो जिसमें विजिटर गूगल पर कीवर्ड सर्च करके आपकी वेबसाइट तक आ रहे है या इमेज सर्च करके आपकी वेबसाइट पर आ रहे है यह समजता है

दूसरी बात यह है कि आपकी वेबसाइट पर 1 महीने में या साल में कितने विजिटर आए और उन्हें कोंसी पोस्ट पसंद आयी इसका अंदाजा आप वेबसाइट के गूगल सर्च कंसोल में एड करने के बाद लगा सकते हो । इस लिए वेबसाइट के होस्टिंग प्रोवाइडर वेबसाइट से वेरीफाई करना जरूरी है ।

दोस्तों इस पोस्ट में हमने जाना कि ” गूगल सर्च कंसोल क्या होता है? वेबसाइट को होस्टिंग से कैसे वेरीफाई करें? वेबसाइट होस्टिंग से वेरीफाई करने के फायदे. What is a Google search console? How to verify the website to hosting?

तो दोस्तों यह आर्टिकल कैसा लगा COMMENT जरूर करें । अगर इस आर्टिकल से जुड़ा आपका कोई सवाल है तो कृपया कमेंट बॉक्स में जरूर पूछे । ताकि आपके साथ और भी लोगों की परेशानी दूर हो । अगर आर्टिकल अच्छा लगे तो इसे अपनों में और आपके पसंदीदा सोशल मीडिया वेबसाइट पर SHARE जरूर करें । अन्य सोशल मीडिया साइट पर हमारे नोटिफिकेशन पाने के लिए कृपया हमें आपके पसंदीदा सोशल मीडिया साइट पर फॉलो भी करें ।

ताकि हमारा आने वाला कोई भी आर्टिकल आप मिस ना कर सको । हमें Facebook, Instagram,  Twitter, Pinterest और Telegram पर फॉलो करें । साथ में हमारी आनेवाली पोस्ट के ईमेल द्वारा Instant Notification के लिए FeedBurner को SUBSCRIBE करें ।


मज़िल पाना तो बहुत दूर की बात है, गरूर में रहोगे, तो रास्ते भी न देख पायोगे । OKTECHGALAXY.COM / Motivation

Thank You, Thank You logo, Ty logo, Thank you very much,