नमस्कार दोस्तों , मेरा नाम है ओंकार । मेरी वेबसाइट OKTECHGALAXY.COM पर आपका फिर से एक बार स्वागत है । कहीं बार आपने जीडीपी शब्द न्यूज़ पेपर में पढ़ा होगा या फिर इंटरनेट , टीवी वगैरह पर सुना होगा पर आप जानते हो कि GDP kya hoti hai? अगर नहीं जानते तो आज मैं आपको वही बताने वाला हूं ।

आज इस पोस्ट में आप नया, इंटरेस्टिंग और यूजफुल जानेंगे की जीडीपी क्या है? GDP Calculate कैसे करते हैं? जीडीपी क्यों गिरती या बढ़ती है? जीडीपी गिरने से लोगों पर क्या असर होता है? What is GDP? How do you calculate GDP?

Economy | GDP | GDP Calculate | Indian Economy | Social Issue | Social Issues
GDP, Gross domestic product, What is GDP, Gross domestic product kya hai, GDP kya hoti hai, Gross domestic product kaise calculate kare, GDP Calculate kare, जीडीपी क्या होती है, जीडीपी कैलकुलेट कैसे करते हैं, How to calculate Gross domestic product, Why and how does GDP fall, Why and how does GDP increase, Why GDP fall in india, How to increase Gdp, Impact on people due to falling GDP, GDP kya hoti hai,
जीडीपी क्या होती है? जीडीपी कैलकुलेट कैसे करते हैं? Why and how does GDP fall or rise?
Popular Or Famous Contents .
> Schema में कौनसा डाटा Add करते हैं?
> FB 2 Step Verification कैसे शुरू करें?
> Responsive Templete डाउनलोड करें?
> Structured Data Testing Use कैसे करें?
> टू स्टेप वेरीफिकेशन कैसे ऑफ करें ?

जीडीपी क्या है? What is GDP? GDP Kya hoti hai?

जीडीपी मतलब है GROSS DOMESTIC PRODUCT यानी सकल घरेलू उत्पाद ।

GDP का सर्वप्रथम इस्तेमाल अमेरिका के अर्थशास्त्री  SIMON KUJLETT ने किया था । भारत में जीडीपी की गणना 1950 से होती आ रही है । GDP यानी घर या इंडस्ट्री में तैयार होने वाली एक साल की चीजे और सेवा । उन चीजों को बेचकर कितना पैसा इंडिया में कमाया है उसे मिलाकर जीडीपी तय की जाती है ।

दोस्तों  जीडीपी आमतौर पर एग्रीकल्चर, इंडस्ट्रीज और सर्विसेस के उत्पाद बढ़ने से या घटने से जीडीपी तय कि जाती है । अगर कोई एक चीज भारत में बनती है और भारत या किसी अन्य देश में बिकती है तो उसका पैसा जीडीपी में गिना जाता है ।

किसी एक साल में देश में पैदा होने वाले सभी सामानों और सेवाओं की कुल वैल्यू को कहते हैं। वैसे ही अगर कोई चीज अन्य देश में तैयार होती है और भारत में बिकती हे तो उस देश के जीडीपी में गिना जाता है ।

GDP Calculate कैसे करते हैं? How to Calculate GDP? GDP Calculate kaise kare?

जीडीपी गिनना बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है । क्योंकि जीडीपी से उस देश की आर्थिक स्थिति कैसी है इसका पता चलता है । तो चले देखते हैं कि जीडीपी कैलकुलेट करने का फार्मूला क्या है और इसे कैसे कैलकुलेट करते हैं ?

GDP = C+I+G+( E-M )

इसे आसान भाषा में समझा जाए तो ऐसा कुछ आएगा ।
200+200+200 ( 100 – 100 ) = 600

एक्सपोर्ट और इंपोर्ट बदल जाए तो उसका जीडीपी इस फार्मूला के अनुसार करे तो अलग आएगा ।

C = CONSUMPTION
I  = INVESTMENT
G = GOVERNMENT EXPENDITURE
E = EXPORT
M = IMPORT

कोई व्यवसाय करते वक्त जो भी कुछ खाने पीने का खर्चा आता हैं वो consumption में आते हैं । आप कोई व्यवसाय करते वक्त अपने व्यवसाय में पैसा इन्वेस्ट करते हो और investment में आता है।

साल भर में सरकार स्कूल आर्मी वगैरह पर खर्चा करती है वह government expenditure में आता है। कोई भी व्यवसाय करते वक्त साल भर में जो कुछ एक्सपोर्ट यानी निर्यात किया जाता है वह Export यह में आता है और जो कुछ चीजें हम आयात करते है वह Import में आती है ।

जीडीपी क्यों और कैसे गिरती या बढ़ती है? Why and how does GDP fall or increase?

अभी तो आपने देखा की जीडीपी कैसे तय होती है । तो इस फॉर्मूला से आपको समझ आया होगा कि जीडीपी कैसे बढ़ती है और कैसे गिरती है । अगर फिर भी नहीं पता तो आगे जान ले ।

हमने ऊपर जाना कि इंडिया की कोई चीज भारत में या अन्य देश में बिकती है तो उसका पैसा जीडीपी में गिना जाता है और बाहर के देश की कोई चीज इंडिया में बिकती है तो उसका पैसा उनके जीडीपी में गिना जाता है।

तो अब आप समझ गए होंगे क्योंकि इंडिया में बहुत सारे लोग अन्य देश के चीजें और उत्पाद खरीदते हैं । इससे उन देशों को या उन कंपनियों को फायदा पहुंचता है । इन कंपनियों में काम करने के लिए हमारे ही लोग होते हैं पर जो कुछ कमाते हैं वह बाहर के देश ही कमाते हैं ।

इससे हमारे देश के युवाओं को रोजगार तो मिलता है पर जीडीपी यानी कमाई दूसरे देश काम आते रहते हैं । अगर हम भारतीय लोग भारत में बनी चीजें खरीदते हैं तो भारत अर्थव्यवस्था सुधर जाती है। और हमारे देश की जीडीपी बढ़ जाती है । इसलिए जब भी कोई चीज खरीदे तो वह चाहे वह ऑनलाइन हो या किसी दुकान से हो अपने देश की ही खरीदें ।

जीडीपी गिरने से लोगों पर क्या असर होता है? Effect of falling GDP on people?

अभी हाल ही में आई खबर के अनुसार इंडिया की एक कंपनी पारले जी ने उत्पादन बिक्री में आई कमी के वजह से उत्पादन कम कर दिया है और 10,000 कर्मचारियों को निकालने के भी तैयारी कर रही है । इससे आपको पता चल चुका होगा कि जीडीपी पर गिरने से किस तरह कंपनियां बंद होती है और रोजगार कम होते हैं ।

आजकल हर एक के घर में छोड़ी या बड़ी कार है , इस लिए ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री भी कम उत्पादन पर आ रही है । हम हर रोज अपना बिजनेस या कोई दुकान शुरू करते हैं और सोचते हैं कि आज कुछ कमाई करेंगे और थोड़ा बहुत कमाते भी हैं फिर शाम को हमें जो चाहिए वह ऑनलाइन ही खरीदते हैं ऐसे में हमारे जीडीपी कैसे बढ़ेगी । इससे हमारे देश का ही नुकसान है ।

# हम अपने देश के लिए क्या कर सकते हैं?

दोस्तों आप किसी भी धर्म , जाति के हो हमारे देश के प्रति प्यार और सम्मान होना चाहिए। इसीलिए जब भी कोई चीज खरीदें अपने देश के लोगों से ही खरीदें ताकि हमारा देश के भविष्य का अच्छा कल हम देख सके ।

बड़ी – बड़ी कंपनियां तो करोड़ों कमाकर जाती है । हमारे देश के लोगों को भी अपना गुजारा चलाने के लिए थोड़ी सी मदद हम इसे कर सकते हैं । और यह हर एक देश के लिए काफी जरूरी है कि देश के युवा अपने देश की जीडीपी बढ़ाने की सोचे।

दोस्तो इस पोस्ट में हमने जाना कि ” जीडीपी क्या है? GDP Calculate कैसे करते हैं? जीडीपी क्यों गिरती या बढ़ती है? जीडीपी गिरने से लोगों पर क्या असर होता है? “

तो दोस्तों यह आर्टिकल कैसा लगा COMMENT जरूर करें । अगर इस आर्टिकल से जुड़ा आपका कोई सवाल है तो कृपया कमेंट बॉक्स में जरूर पूछें । ताकि आपके साथ और भी लोगों की परेशानी दूर हो । अगर आर्टिकल अच्छा लगे तो इसे अपनों में और आपके पसंदीदा सोशल मीडिया वेबसाइट पर SHARE जरूर करें । अन्य सोशल मीडिया साइट पर हमारे नोटिफिकेशन पाने के लिए कृपया हमें आपके पसंदीदा सोशल मीडिया साइट पर फॉलो भी करें ।

ताकि हमारा आने वाला कोई भी आर्टिकल आप मिस ना कर सको । हमें Facebook, Instagram, Twitter, Pinterest और Telegram पर फॉलो करें । साथ में हमारी आनेवाली पोस्ट के ईमेल द्वारा Instant Notification के लिए FeedBurner को SUBSCRIBE करें ।


दुनिया कि हर परेशानी आपकी हिम्मत के आगे घुटने टेक देती हैं । OKTECHGALAXY.COM / Motivation

Thank You, Thank You logo, Ty logo, Thank you very much,